कोहिनूर हीरे का गवाह था आगरा का लाल किला

कोहिनूर हीरे की कहानी इस किले से शुरू हुई।


The story of Kohinoor diamond started from this fort. The Mughals made the fort of Agra their fortress. The fort built Yamuna has preserved many history in itself. Demonstrating the grandeur of architecture and Mughal style, this fort is now included in the historical heritage. Thousands of tourists visit every day for its glory.

(कोहिनूर हीरे की कहानी इस किले से शुरू हुई। मुगलों ने आगरा किले को अपना गढ़ बनाया। यमुना किनारे बना किला अपने आप में कई इतिहास संजोए हुए हैं। वास्तुकला और मुगल शैली की भव्य कलाओं को दर्शाता ये किला आज ऐतिहासिक धरोहरों में शामिल है। रोजाना हजारों पर्यटक इसके दीदार के लिए पहुंचते हैं।)


It is believed that Akbar arrived in Agra in 1558. He ordered the renovation of the fort with red sandstone. About four thousand workers worked on this fort every day and this fort was completed in eight years. In 1565-1573 this fort was done everyday in the fort.

(ऐसे हुआ निर्माण माना जाता है कि अकबर 1558 में आगरा पहुंचे। उन्होंने लाल बलुआ पत्थर के साथ किले का नवीकरण करने का आदेश दिया। करीब चार हजार मजदूरों ने रोजाना इस किले पर काम किया और ये किला आठ साल में बनकर तैयार हुआ। 1565-1573 में इस किले में हर रोज काम हुआ।)



Four doors, specially designed for water, the red fort of Agra was built on the Yamuna border. The fort is surrounded by a wall of fortification of 21.4 meters high. There are four doors around it. There is also a special door for water, which is called the gate of water by the Khasiri gate. This Yamuna opens in front of the river, where water was provided to the ghats. The Red Fort is spread over about 94 acres of land. Even today, there are more than two dozen monuments in the fort.

(चार दरवाजे, पानी के लिए खास आगरा का लाल किला यमुना किनारे बनाया गया था। किला एक 21.4 मीटर ऊंची दुर्ग की दीवार से घिरा हुआ है। इसके चारों तरफ चार दरवाजे हैं। वहीं पानी के लिए विशेष द्वार भी है, जिसे खजिरी द्वार पानी का द्वार कहते हैं। ये यमुना नदी के सामने खुलता है, जहां घाटों को पानी प्रदान किया जाता था। लाल किला लगभग 94 एकड़ जमीन पर फैला हुआ है। आज भी किले में दो दर्जन से अधिक स्मारक मौजूद हैं।)


The Red Fort, built on Yamuna, is situated on the right bank of Yamuna river. It is one of the most important and strongholds of the Mughals. During the Lodhi period many palaces, wells and mosques were built in the fort.

( यमुना किनारे बनालाल किला यमुना नदी के दाएं किनारे पर स्थित है। यह मुगलों के सबसे महत्वपूर्ण और मजबूत बनाए गए गढ़ में से एक है। लोधी काल के दौरान किले में कई महलों, कुओं और मस्जिद का निर्माण हुआ।)

It is reported that when Babar sent his son Humayun to Agra, then he captured the fort and seized a huge treasure, including the world famous Kohinoor diamond. Babar built Bali here (step-wall). The British created the barracks destroyed most of the buildings to increase barracks. Hardly 30 Mughal buildings are left from the south-east side. Of these, the Delhi-Gate, Akbar-Gate and 'Bengalis-Mahal' are the representatives of the buildings raised during Akbar's reign.

( बताया गया है कि जब बाबर ने अपने बेटे हुमायूं से आगरा भेजा, तो उसने किले पर कब्जा कर लिया और एक विशाल खजाना जब्त कर लिया, जिसमें विश्व प्रसिद्ध कोहिनूर हीरा भी शामिल था। बाबर ने यहां बाली (कदम-दीवार) का निर्माण किया। ब्रिटिशों ने बना दिए बैरकब्रिटिश ने बैरकों को बढ़ाने के लिए अधिकांश इमारतों को नष्ट कर दिया। शायद ही 30 मुगल इमारतों दक्षिण-पूर्व ओर से बचे हैं। इनमें से, दिल्ली-गेट, अकबारी-गेट और 'बंगाली-महल' अकबर के शासनकाल के दौरान उठाए गए भवनों के प्रतिनिधि हैं।)

They say that Jahangir lived mostly in Lahore and Kashmir. However, he used to regularly visit Agra and lived in the fort. At the same time Shahjahan extended the white marble palaces here They also built three white marble mosques in it. Moti-Masjid, Nagina-Masjid and Meena-Masjid. Captured Father and Aurangzeb captured his father Shah Jahan in the fort for eight years. He died in 1666 and was buried in Taj Mahal.

( बताते हैं कि जहांगीर ज्यादातर लाहौर और कश्मीर में रहते थे। लेकिन, वे आगरा से नियमित रूप से दौरा करते थे और किले में रहते थे। वहीं शाहजहां ने यहां सफेद संगमरमर के महलों को बढ़ाया। उन्होंने इसमें तीन सफेद संगमरमर मस्जिद भी बनाए। मोती-मस्जिद, नगीना-मस्जिद और मीना-मस्जिद।पिता को किया कैदऔरंगजेब ने अपने पिता शाहजहां को आठ साल तक किले में कैद किया। 1666 में उनकी मृत्यु हो गई और उन्हें ताजमहल में दफनाया गया।)

But after his death, Agra lost his grandeur. Shivaji Aasheshivaji came to Agra in 1666 and visited Aurangzeb in Diwan-i-Khas. Aurangzeb died in 1707 and in the 18th century, the history of the fort of Agra was a saga of infiltration and looting, during which it was organized by Jats and Marathas and finally the British captured it later in 1803.

(लेकिन उनकी मृत्यु के बाद, आगरा ने अपनी भव्यता खो दी। शिवाजी पहुंचेशिवाजी 1666 में आगरा आए और दीवान-ए-खास में औरंगजेब से मिले। औरंगजेब की मृत्यु 1707 में हुई और 18 वीं शताब्दी में आगरा के किले का इतिहास घुसपैठ और लूट की एक गाथा है, जिसके दौरान यह जाट और मराठों द्वारा आयोजित किया गया था और अंत में अंग्रेजों ने बाद में 1803 में इसे कब्जा कर लिया था)

The red fort opens up from sunrise to sunset till sunset. There are thousands of tourists visiting every day. For Indian tourists, the admission fee is thirty rupees. For the tourists of SAARC countries Bangladesh, Nepal, Bhutan, Sri Lanka, Pakistan, Maldives and Afghanistan and BIMSTEC countries (Bangladesh, Nepal, Bhutan, Sri Lanka, Thailand and Myanmar), the fee is also Rs. Thirty per person per person. Per capita fee for foreigners in the ASI list is five hundred rupees.

(सूर्योदय से खुलता है सूर्यास्त तकलाल किला सूर्योदय से सूर्यास्त तक खुलता है। यहां रोजाना हजारों पर्यटक पहुंचते हैं। भारतीय पर्यटकों के लिए यहां प्रवेश शुल्क तीस रुपये हैं। वहीं सार्क देश बांग्लादेश, नेपाल, भूटान, श्रीलंका, पाकिस्तान, मालदीव और अफगानिस्तान और बिम्सटेक देशों (बांग्लादेश, नेपाल, भूटान, श्रीलंका, थाईलैंड और म्यांमार) के पर्यटकों के लिए भी इसका शुल्क मह​ज तीस रुपये प्रति व्यक्ति है। एएसआई की सूची में विदेशी व्यक्तियों के लिए प्रति व्यक्ति शुल्क पांच सौ रुपये हैं)






Popular Posts